Ridmalsar Sipahiyan

Ridmalsar Bikaner (Raj) India

Famous Personlities Post New Entry



view:  full / summary

History of sipahi Samaj

Posted by Sadik Khan Panwar on May 27, 2012 at 12:40 PM Comments comments (0)

मारवाड़ राजस्थान में मुस्लिम  राजपूतो के कई थोक है.मगर ये चार बड़े थोक है और सब अपनी असली खांप के नाम से सिपाहियों में जाने जाते है.

1.सिन्धी जो पश्चिम मारवाड़ में होते है

2.देशवाली जो पूर्व मारवाड़ में हर जगह होते है

3.नायक ये जोधपुर मे ज्यादा है

4.क्यामखानी ये चौहान भी जाने जाते है और नागौर,डीडवाना की तरफ बहुत है

सिपाही समाज के इतिहास पर एक नज़र डालने पर ये ज्ञात हुआ की बुजुर्गो के कहे अनुसार समाज के बही-भाट,लंगे,ख्यात और प्राचीन राजघराने से जुड़े परिवारों से सिपाही समाज की जानकारी मिलती है आज भी सिपाही समाज की विभिन जातियों के बही-भाट,जोबनेर के पास आसलपुर से आते है इन भाटो के पास सिपाही समाज का पूरा इतिहास है सिपाही समाज के ज्यादातरलोग जैसलमेरऔर सिंध से आकर राजस्थान के विभिन हिस्सों(राज्यों ) में बस गए.जिन्हें कही सिन्धी,कही सिपाही और दुसरे नामो से भी जाना जाता है बीकानेर में भी सिपाही समाज का एक संगठन है जो समाज की ऐतिहासिक प्रस्ठभूमि पर काम कर रहा है जिन्हें प्रगतिशील सिपाही समाज और प्रगतिशील सिन्धी सिपाहीसमाज कहा जाये तो कोई फर्क नहीं होगा क्योंकि ये संगठन सिन्धी-समाज की जातियों का ही प्रतिनिधि है इस जाति का मूल नाम सिपाही है तो इस जाति का इलाकाई और भोगोलिक नाम सिन्धी है. सिन्धी-सिपाही एक-दुसरे के पर्याय है बाड़मेर से गंगानगर के इलाके तक बसे लोग कही अपने भोगोलिक नाम से जाने जाते है तो कही अपने मूल नाम से जाने जाते है दरअसल में इस जाति के भोगोलिक और मूल नाम को जोड़कर देखा जाये तो इन पूरी जातियो का नाम सिन्धी सिपाही है जो सिंध से आकर बाड़मेर से गंगानगर रिडमलसर बीकानेर तक में बसी हुई है इनकी सभी उपजातियां सामान है और आपस में शादी-ब्याह होते है गंगानगर,हनुमानगढ़ के राठी इलाके में बसी इस जाति को इलाके के लिहाज से राठ कहा जाता है. सिन्धी सिपाही समाज की ऐतिहासिक जानकारी पर अभी शोध जारी है मूल रूप से सिन्धी सिपाही एक ही नस्ल और जाति है.

द्वारा:

हिंदी अनुवादन

सदीक खान पंवार

७ क १० पवनपुरी साउथ बीकानेर

स्रोत :

वीर सिपाही स्मारिका

Source:

www.ridmalsar.webs.com

www.veersipahi.wordpress.com

www.sipahisamaz.com

 

Popular Faces of Ridmalsar who left their footprints on the Earth

Posted by Sadik Khan Panwar on May 14, 2012 at 1:00 PM Comments comments (0)

रिडमलसर के चर्चित चेहेरे जो जमीं पे अपने निसान छोड़ गए

Popular Faces of Ridmalsar who left their footprints on the Earth

रिडमलसर के चर्चित चेहरे जो ज़मी पे अपने निसान छोड़ गए

 तेजू खां पंवार,मोहम्मद हुसैन कोहरी,रहीम बक्स जोइया ,कम्मू खां पंवार,नबी बक्स जोइया,मेहरदीन तंवर, हीरे खां पंवार,जलालदीन समेजा,युनस अली कल्लर, इमाम दीन पंवार,इस्माइल खां समेजा,नेक मोहम्मद परिहार, निजाम खां पंवार,हाजी हसन खां समेजा,जलाल खां कल्लर, अमरदीन पंवार,सराज खां समेजा,दीन मोहम्मद जोइया ,हसन खां पंवार,जहूर खां समेजा,मोहम्मद हुसैन परिहार ,जलाल दीन पंवार,गुलाम कादर जुनेजा,इलाही बक्स जोइया, अब्दुल सत्तार पंवार,अब्दुल मजीद जुनेजा,सरवर दीन जोइया, इकबाल हुसैन पंवार,अब्दुल अज़ीज़ समेजा,महबूब जोइया, मंज़ूर अली पंवार,मोहम्मद खां कल्लर,फिरोज खां कोहरी, गुलाम खां पंवार,हुसैन खा कल्लर,हसन खां भाटी, बुलाकी खां पंवार,इशाक खां पंवार,बशीर खां कोहरी ,शमशेर अली पंवार,इशाक खां मांगलिया,अफज़ल खां मांगलिया, नबू खां मांगलिया,फकर दीन तंवर,रमजान खां मांगलिया ,मुमताज अली पंवार,कालू खां मांगलिया,लाल मोहम्मद समेजा ,मोहम्मद.इस्माइल पंवार,सराज खां परिहार,इब्राहीम खां समेजा, अब्दुल रजाक पंवार,निसार अहमद जोइया,फैज़ मोहम्मद समेजा, गुलाम फरीद पंवार,नबू खां कल्लर,सिकंदर खां समेजा, बन्ने खां मांगलिया ,अत्ता मोहम्मद पंवार, अब्दुल अज़ीज़ जोइया, ज़हूर अहमद जोइया,अहसान उल हक,लियाकत अली समेजा,जनाब महमूद खान मांगलिय,मुनीर अली कोहरी ,.गुलाब खान तंवर,मुनीर अली कोहरी,अज़ीज़ खान मांगलिया,मजीद खान मांगलिया,मौज दीन भाटी,अब्दुल हमीद मांगलिया ( सागर साहब ), .फैज़ मोहम्मद मांगलिया,मोहब्बत अली मांगलिया,

 

Teju Khan Panwar,Jalaldeen Sameja,Mohd.Hussain Kohri,Kammu Khan panwar,Ismail Khan Sameja,Yunas Ali kallar,Heere Khan Panwar,Hassan Khan sameja,Nek Mohd.Parihar,Imaam Deen Panwar,Saraz Khan sameja,Jalal Khan Kallar,Nizam Khan Panwar,Jahoor Khan Sameja,Deen Mohd.Joiya,Amardeen Panwar,Gulam kadar Juneja,Mohd.Hussain Parihar,Hassan Khan panwar,Abdul Majid Juneja,Ilahi Bux Joiya,Jalal Deen Panwar,Abdul Aziz Sameja,Sarwar Deen Joiya,Abdul Sattar Panwar,Lal Mohd. Sameja,Mehboob Joiya,Iqbal Hussain Panwar,Ibrahim khan sameja,Feroz Khan kohri,Manzoor Ali Panwar,Faiz Mohd.Sameja,Hassan Khan Bhati,Mumtaj Ali Panwar,Sikander khan Sameja,Bashir khan kohri,Mohd.Ismail Panwar,Mohd.Khan Kallar,Afzal Khan Manglia,Abdul Razak Panwar,Hussain Khan Kallar,Ramjan khan manglia,Gulam Khan Panwar,Ishak Khan Panwar,Banne khan manglia,Bulaki Khan Panwar,Ishak Khan Manglia,Raheem Bus Joiya,Shamsher Ali Panwar,Fakar Deen Tanwar,Mehardeen Tanwar,Nabbu Khan Manglia,Kalu Khan manglia,Nabu Khan Kallar,Gulam Farid Panwar,Saraj Khan Parihar,Nisar Ahmed Joiya,Nabi bux Joiya, Atta mohd. Panwar.,Abdul aziz joiya,Jahoor Ahmed joiya,Ahsan ul haque,Liyakat Ali Sameja,janab mehmood Khan Manglia.Gulab Khan Tanwar ,Muneer Ali Kohri,Aziz Khan Manglia,Majid Khan Manglia,Mauzdeen Bhati , Abdul Hameed Manglia (Saagar ),Faiz Mohammad Manglia,Mohabbat Ali Manglia died on 10.07.15

अल्लाह सब मरहमों  को ज़न्नत बक्से

आमीन

 



Quran Reader

Posted by Sadik Khan Panwar on June 11, 2011 at 6:15 AM Comments comments (2)

golden words

Posted by Sadik Khan Panwar on April 23, 2011 at 4:49 AM Comments comments (0)

Life's Most Deepest Feelings are often Expressed in Silence.

And those Who can Read the meaning of Your silence are Your True Friends.

Take care.


golden words

Posted by Ayub Ali Panwar on March 17, 2011 at 8:22 AM Comments comments (1)

Life is Like Making Tea.

Boil Your Ego,

Evaporate Your Worries,.

Dilute Your Sorrows.

Filter Your Mistakes

and

Get Taste of Happiness.

take care.


golden words

Posted by Sadik Khan Panwar on March 17, 2011 at 8:16 AM Comments comments (0)

Life is Like Making Tea.

Boil Your Ego,

Evaporate Your Worries,.

Dilute Your Sorrows.

Filter Your Mistakes

and

Get Taste of Happiness.

take care.

golden words

Posted by Sadik Khan Panwar on April 27, 2010 at 9:05 AM Comments comments (4)

People are made to be loved

& Things are made to be used

but problem is that

People are being used &

Things are being loved

 


Rss_feed