Ridmalsar Sipahiyan

Ridmalsar Bikaner (Raj) India

Famous Personlities Post New Entry

Abdul Zabbar Tanwar (Hazi)

Posted by Sadik Khan Panwar on February 5, 2013 at 4:25 AM Comments comments (0)

Born 23 December 1928 in Ridmalsar Bikaner at house of Late Janab Gulab Khan Tanwar Now 85 yrs old Hazi Abdul Zabbar Tanwar of one of them who studied upto B.A.B.Ed,D.P.Ed. and L.L.B and posted as a headmaster in Upper Primary School Ridmalsar Sipahiyan Bikaner.in 04 August 1947. Since then he has worked and promoted upto Deputy District Education Officer (Physical) in Sri Ganga Nagar. Now He has retired from state service and working as an advocate and he has also devoted himself in writing poetry.his book 'Es Sadi Ke Log" Published in 2005 liked by all.he is known as Zabbar bikanvee in literary field


 

23 दिसम्बर 1928 को जनाब  गुलाब खान तंवर के घर रिडमलसर बीकानेर मे   जन्मे जनाब अब्दुल ज़ब्बार तंवर ने बी ए ,बी एड और एल एल बी  पास  करके  अपने ही गाँव रिडमलसर  उच्च प्राथमिक  विद्यालय  मे  प्रधानाद्यापक  पद पर 4 अगस्त 1947 को  नियुक्त हुए . तब से आपने राज्य सेवा करते हुए मे उप जिला शिक्षा अधिकारी पद  पर श्री गंगानगर मे  कार्य किया .आज आप 85 वर्ष की उम्र मे भी सक्रिय है और वकील का पेशा अपना कर समाज की सेवा कर रहे है .आप हिंदी कविता भी लिखतें है।  आपकी लिखी हुए कविताओं का संग्रह "इस सदी  के लोग "2005 मे  प्रकाशित हुई जिसको लोगो के द्वारा पसंद किया  गया .आपको  काव्य के छेत्र  मे ज़ब्बार बिकान्वी के नाम से जाना जाता है .




 



Bulaki Khan Sameja (Hazi)

Posted by Sadik Khan Panwar on January 8, 2013 at 6:00 AM Comments comments (0)


HAZI BULAKI KHAN SAMEJA S/O JANAB NIZIMUDDIN KHAN UNNAD   RETIRED- SENIOR TEACHER   TULWARA JHEEL  KNOWN AS JAGIRDAR


Mustaque Ahmed Panwar (Hazi)

Posted by Sadik Khan Panwar on August 3, 2012 at 1:40 PM Comments comments (0)

Born in Ridmalsar Bikaner on 23.09.1931 at house of late Kamruddin Panwar Janab Mustaque Ahmed panwar studied hard and completed his M.A.(history) and become a teacher (headmaster) and retired as a lecturer on 31.09.1989 after serving35 years.He was so religious at his tender age that he started praying Namaaz Since when he was only 16 years old and continued still now at his old age.this is the secret of his nature.

रिडमलसर में दिनांक 23.09.1931 को मरहूम कमरुद्दीन पंवारके घर जन्मे हाजी मुस्ताक अहमद पंवार ने पढाई में कड़ी मेहनत की और इतिहास विषय में एम.ए- करके आप एक अध्यापक (प्रधानाध्यापक ) बने और 31.09.1989 को 35 साल की राजकीय सेवा के बाद व्याख्याता पद से सेवानिर्वत हुए.आप बचपन से ही इतने धार्मिक प्रवर्ति के थे कि आपने 15- 16 साल की उम्र से नमाज़  अदा करनी शुरू की और आज भी 80 साल की उम्र में भी नमाज़ अदा कर अपना फ़र्ज़ अदा कर  रहे हैं.अल्लाह सभी मुसलमान भाई लोगो को उनसे सीख़ लेने की तौफीक अदा करें.

 



Mehfooz Ali Panwar

Posted by Sadik Khan Panwar on May 29, 2012 at 1:15 PM Comments comments (0)


 

जनाब हसन खानपंवार  के घर रिडमलसर में जन्मे जनाब महफूज़ अली पंवार बचपन से ही पढाई में अव्वल रहे और शिक्षा ग्रहण करने के बाद शिक्षा सेवा में व्याख्याता पद पर आपका चयन हुआ.उसके बाद आप प्रधानाध्यापक माध्यमिक शिक्षा में लोक सेवाआयोग अजमेर  द्वारा चयन हुआ.तब से लगातार शिक्षा विभाग में विभिन्न पदों पर आसीन रहने के बाद आप शिक्षा निदेशालय बीकानेर में सहायक निदेशक के पद रहने वाले गाँव रिडमलसर के एक मात्र व्यक्ति है

Born at house of Janab Hasan Khan Panwar Mr. Mahfooz Ali Panwar was a brilliant student. After study he was selected as school lecturer after that he was selected as a headmaster secondary school by RPSC Ajmer. He has been serving in the education department as an Assistant Director of the directorates Bikaner of education department